Meri Bitiya

Tuesday, Sep 30th

Last update02:00:08 PM GMT

मेरी बिटिया डॉट कॉम अगर आपको पसंद हो, आप इस पोर्टल के लिए सुझाव, समाचार, निर्देश, शिकायत वगैरह भेजने के इच्‍छुक हों तो meribitiyakhabar@gmail.com पर हम आपकी प्रतीक्षा कर रहे है.

हवस पूरी न हुई तो सास को मार डाला

दहशत में है बिजनौर का नूरपुर कस्‍बा

: अपनी ही साली पर निगाह थी मुकेश की

: सास-दामाद के रिश्‍तों पर लगा कलंक

अपनी ससुराल में दामाद की हैसियत आम तौर पर तो बेटे से भी बढ कर होती है। लेकिन बिजनौर के नूरपुर में ऐसा नहीं हुआ। यहां के एक परिवार में तो दामाद बेटा बनने के बजाय खुद अपनी मां सरीखी सास का हत्‍यारा बन गया। कारण था अपनी छोटी बहन जैसी सगी साली पर बुरी निगाह। लेकिन उसकी सास अपने दामाद की मंशा को भांप चुकी की थी। नतीजा, मंशा पूरी नहीं हो सकी तो वह अपनी ही सास का कातिल बन गया। बहरहाल, समाज का यह कलंक अब जेल की सलाखों के पीछे है। मगर से अपने किये का अफसोस हर्गिज नहीं है।

देवभूमि हरिद्वार मार्ग पर बसे बिजनौर के नूरपुर में आज सन्‍नाटा छाया हुआ है। यहां रामरति देवी की मौत ने पूरे इलाके को सहमा दिया है। घटनाक्रम के अनुसार स्‍थानीय निवासी रामरति देवी की बडी बेटी की शादी पास के ही गांव के मुकेश के साथ हुई थी। लेकिन शादी के बाद से ही रामरति को पता चल गया कि उसका दामाद एक शातिर अपराधी है। मुकेश तो चोरी, मारपीट और बलवा जैसे अपराधों में कई बार जेल की हवा खा चुका था। इस बात को लेकर रामरति देवी बेहद दुखी रहा करती थी। लेकिन चूंकि मामला उसकी सगी बडी बेटी से जुडा हुआ था, इसलिए वह खून के घूंट पीरकर ही रह जाती थी। हालांकि उसने कई बार चाहा कि वह मुकेश का आनाजाना अपने घर बंद करा दे, लेकिन यह मुमकिन ही नहीं हो पाया। उधर मुकेश अपनी छोटी साली के पीछे पडा हुआ था। वह चाहता था कि उसकी साली की शादी उसके छोटे भाई के साथ हो जाए तो उसके मंसूबे पूरे हो जाएं। लेकिन रामरति देवी को यह मंजूर ही नहीं था। वह जानती थी कि मुकेश का छोटा भाई भी शातिर अपराधी है और अक्‍सर जेल आयाजाया करता है। उसने इस विवाह के प्रस्‍ताव का कडा विरोध किया।

उधर अपनी साजिश के नाकाम होने के हालात देख कर मुकेश खफा हो गया और आखिरकार रामरति को मार डालने की तैयारी की जाने लगी। पुलिस के अनुसार बीती रात को मुकेश अपननी ससुराल आया और उसने फिर रात के खाने में नशे का पाउडर मिलाकर सबको खिला दिया जबकि खुद खाना नहीं खाया। इधर जहां पूरा घर दवा के नशे में चूर था, मुकेश ने एक तकिया से अपनी सास का गला दबाकर हत्या कर दी ।

 

Comments (3)Add Comment
...
written by kanchan, May 14, 2013
jaisa isme likha h ki ramrati ko ye pta tha ki uska damad apradhi h to usko apni beti ki shadi usse krni hi nhi chhiye the....hm smaj k dar se ya badnaami k dar se kab tk apni khushiyo ko daav pr lgate rahege..sab kuch pta hone ka baad bhi koi karyawahi na krna or na hi kisi ko is baare me jankari dena galat h.....hame ab apni soach ko badlna hoga.agr apradh krna galat h to apradh ko sehna bhi galat h.....Filhaal is apradhi ko saza to honi chahiye bt hame apni soach ko badlna or is mamlo me khud ko Secure rakh k chalna bahut zaruri h
...
written by narayan solanki(nimdi), December 13, 2011
finish the man yaar ma ke katil ko jinda chodna hi gunah he.
...
written by kanchan singh, March 03, 2011
en sabhi apradh karne walo ko etni khatrnak saja den chahiye ki enk hath pero mian sad jaye or log thuke en per aam janta ke beech enhe chod dena chahiye ki janta khud enko mare

Write comment

busy