सोशल साइट्स? हा हा हा, योगीजी बहुत मजाक करते हैं

: दो दिन बचे हैं यूपी लोकसेवा आयोग की परीक्षाएं शुरू होने को, लेकिन सरकार खामोश : सवा दो लाख से ज्‍यादा अभ्‍यर्थियों ने अपनी पीड़ा मुख्‍यमंत्री तक ट्विेटर पर भेजी थी, जवाब धेला भर न आया : तनिक देखिये तो कि मेरी एक पोस्‍ट पर कितना विह्वल हो पड़े अभ्‍यर्थी :

कुमार सौवीर

लखनऊ : उप्र लोक सेवा आयोग की परीक्षाएं 18 जून से शुरू हो रही हैं। दावा किया जा रहा है कि सेवा आयोग प्रशासन इन परीक्षाओं को सुचारू संचालित कराने के लिए कमर कसे बैठा है। दावे हैं कि दिन रात काम चल रहा है। लेकिन ज्‍यों-ज्‍यों परीक्षाओं के दिन समीप आने लगे हैं, लाखों प्रत्‍याशियों के दिल त्‍यों-त्‍यों बुरी तरह धड़कने लगे हैं। वजह है लोकसेवा आयोग की पिछली पांच-छह बरसों में की गयीं जघन्‍य आपराधिक करतूतें, जिन्‍होंने लाखों परीक्षार्थियों का जीवन तबाह कर दिया।

हैरत की बात है कि सन-16 के पीसीएस की मुख्‍य परीक्षा का अब तक परिणाम सार्वजनिक कर पाने में लोक सेवा आयोग की अक्षमता। इतना ही नहीं, आयोग ने सन-17 की पीसीएस प्राथमिक परीक्षा में हुई गड़बडि़यों को दूर पाने में अपने हाथ खड़े कर दिये हैं। और इसके बावजूद आयोग ने पीसीएस की मुख्‍य परीक्षा की तारीख इकतरफा घोषित कर डाली। जाहिर है कि इससे अभ्‍यर्थियों में गुस्‍सा है। इसकी शिकायत इन परीक्षार्थियों ने हर मंच पर की है। लोक सेवा आयोग से लेकर राष्‍ट्रपति और प्रधानमंत्री तक को इसकी खबर दी गयी। मगर कोई भी परिणाम नहीं निकला। शिकायतों पर कभी कान ही नहीं दिया गया।

मगर सबसे ज्‍यादा नाराजगी तो मुख्‍यमंत्री से है इन अ‍भ्‍यर्थियों को, जिन्‍होंने अब तक सवा दो लाख से ज्‍यादा शिकायतें मुख्‍यमंत्री के ट्विटर पर दर्ज की, लेकिन एक भी शिकायत का कोई भी जवाब मुख्‍यमंत्री कार्यालय से नहीं आया। न हां, न ही ना। न तो कोई आश्‍वासन मिला और न ही कोई दो-टूक जवाब। बुरी तरह आहत हैं यह युवक-युवतियां, जो सरकारी नौकरी हासिल करने के लिए अपनी मेधा की परीक्षा देने पर तत्‍पर हैं। हमने देहरादून के एक पुलिस थाने पर पुलिस वालों की गुंडागर्दी की एक खबर लिखी, जिसमें उन्‍नाव की अपर जिला एवं सेशंस जज जया पाठक को भी पुलिसवालों ने प्रताडि़त किया था।

मी लॉर्ड! चो‍टहिल मातृत्‍व की पीड़ा देखो, छक्के छूट जाएंगे

हमने उस खबर का लिंक कई समूहों में डाला, तो प्रतियोगी छात्र संघर्ष समिति समूह के सदस्‍यों की पीड़ा बह निकली।

CHHATRA SANGHRSH SAMITI. : सर इस ग्रुप के छात्रों की पीड़ा मुख्यमंत्री तक पहुचाने में मदद करें , अब सिर्फ कुछ दिन शेष है ...18 जून से परीक्षा

Dhirendra Pratap Singh : तुम परीक्षा दो काहे इतना दिमाग लगा रहे हो

Dhirendra Pratap Singh : और सपोर्ट करो यौगिक को

Dhirendra Pratap Singh : सर प्रणाम , सपोर्ट तो अब नही होगा , सारी पार्टियां एक समान हैं ...

Mahendra Pratap Singh : मामा जी प्रणाम आप विगत दिनों की घटनाओं से अवगत होते हुए ऐसा कह रहे हैं परीक्षा तो हम लोग देना ही चाहते हैं पर इस प्रकार से नहीं आप जुलाई में कह कर जून में करा रहे हैं

Dhirendra Pratap Singh : सभी पार्टियां चोर हैं

Dhirendra Pratap Singh : हम तो पीड़ा समझ ही रहे हैं इसीलिए ना कह रहे हैं कि सब ध्यान हटा कर पढ़ाई पर मन लगाओ 4 दिन और बचा है बस

Mahendra Pratap Singh : सोशल मीडिया हब का उद्घाटन बड़े धूमधाम से सरकार कर रही है पर सोशल मीडिया हब पर लगभग सवा दो लाख ट्विटर प्रतियोगी छात्रों ने किए हैं पर सरकार की तरफ से एक भी जवाब नहीं आया ऐसे ही रहा तो हो गया इनका कल्याण

Dhirendra Pratap Singh : कल्याण तो होना ही है

Mahendra Pratap Singh : यही तो हम लोगों का दुर्भाग्य है

Pankaj Singh : सरजी प्रणाम। पी सी एस प्रतियोगीयो की मदद करें

Sandeep Dubey : सर अब तो लग रहा कोई रास्ता ही नही बचा है शासन के सभी स्तंम्भो तक ये बात पहुंच चुकी है न्यायपालिका की मर्जी का आभास तो हो ही गया है अब जो हो सकता है या होना है वह शासन स्तर से ही सम्भव है

Aditya Mohan Gupta : मदद करें श्रीमान।

Ravi SrivastavaRavi : We need your help Sir...

बधाई हो। तुम्हारे घर बाबू पैदा हुआ, इंसान नहीं

यूपी लोकसेवा आयोग अध्‍यक्ष पर लटकी इस्‍तीफे की तलवार, कुर्सी के लिए झौं-झौं शुरू

आयोग और उसके रिजल्‍ट का भरोसा नहीं, चली है अफसर बनने

प्रतिभागियों की लॉटरी निकालने वाले उप्र लोकसेवा आयोग पर शनि की साढ़े-साती

सिंहासन खाली करो, कि सीबीआई आती है

सेवा आयोग तक पहुंची सीबीआई, अनिल यादव की खैर नहीं

लोकसेवा आयोग में चौथे बर्खास्‍त अध्‍यक्ष हैं अनिल यादव

उप्र लोकसेवा आयोग: तीन सत्र शून्‍य, परीक्षा फिर टली

कुड़ुक हो गया है लोकसेवा आयोग, नौकरी नहीं देता

सलाम तुमको अवनीश पांडे, तुमको पीढ़ियां याद करेंगीं

सेवा आयोग: 40 हजार सीधी भर्तियों में खुली बेईमानी

सेवा आयोग: 40 हजार सीधी भर्तियों में खुली बेईमानी

सेवा आयोग: सीबीआई लाने वाले युवाओं के सपने भस्‍म