कक्षा 6 के बच्‍चे ने प्रेमप्रत्र लिखा, तो स्‍कूल के शिक्षकों ने उसे फुटबॉल समझ कर कूटा

: यह मासूम में उमड़े इश्क के तूफान का मामला है, या शिक्षकों का सामूहिक वहशीपन : अम्‍बेदकरनगर में दिल-दहला देने वाली घटना से नागरिक सन्‍न : सरकारी जूनियर हाई स्‍कूल में हुए हादसे की जांच के आदेश दिये बीएसए ने :

मेरी बिटिया डॉट कॉम संवाददाता

लखनऊ : कक्षा छह में पढ़ने वाले एक बच्‍चे पर आरोप था कि उसने प्रेम-पत्र लिखा है। बस, शिक्षकों को इतना ही प्रमाण चाहिए था, और यह भी चाहिए था कि वे कई दिनों से अपने हाथों में भड़कती जा रही खुजली को दिल भर कर खुजला सकें। फिर क्‍या था, पूरे स्‍कूल के सारे छात्रों ने उस छात्र को दबोचा,  स्‍कूल परिसर में सारे छात्रों का गोला बनाया। तालिबानी अंदाज में उस पर आयद आरोप सुनाया और उसके बाद जिस भी छात्र को जहां भी मौका मिला, जहां भी इच्‍छा हुई, वहीं पर उस बच्‍चे की पिटाई कर दी। बेहिसाब लात, घूंसे और तमाचे रसीद किये।

यह मामला है यूपी के पूर्वांचल के अम्बेदकरनगर जिले का। खबर है कि शिक्षकों द्वारा एक छात्र की पिटाई का मामला सामने आया है। मामला है यहां के जहांगीरगंज इलाके शिक्षा क्षेत्र के उच्च प्राथमिक विद्यालय नसीरपुर का, जहाँ पर आज एक पत्र ( प्रेमपत्र ) मिलने से नाराज उसी स्कूल के अध्यापकों ने सूर्यकांत नाम के कक्षा 6 के छात्र की संयुक्त रूप से मिलकर पिटाई कर दी। शिक्षकों ने इस छात्र को इतनी बेरहमी से पीटा, जिससे उसे गम्भीररूप से चोटे आई है। आरोप है कि इस विद्यालय के कई अध्यापको द्वारा एकजुट होकर कक्षा 6 के इस छात्र को निर्ममतापूर्वक पीटा, जिससे इस छात्र के हाँथ पैर सहित कई भागो में गंभीर चोट आई है।

इस वीडियो में दर्ज है शिक्षकों का सामूहिक वहशीपन। देखना हो तो इस वीडियो को क्लिक कीजिए :-

बाल-हृदय का कुचलना

इस मामले की जानकारी होते ही बीएसए के निर्देश पर क्षेत्रीय एसडीआई ने विद्यालय पहुँचकर मामले की जांच की। अब तक मिली खबरों के अनुसार इस मामले में शिक्षकों ने इस छात्र के साथ बेहद अमानवीय व्‍यवहार किया था। खबर है कि एसडीआई की जांच रिपोर्ट आने के बाद कल बुद्धवार को बीएसए इस मामले में बेहद कठोर निर्णय कर सकते हैं। उधर खबर है कि उपरोक्‍त पीड़ित छात्र के परिवार वालों ने इस मामले में थाने में लिखित शिकायत भी दर्ज करा दी है।

अम्‍बेदकरनगर की खबरों को पढ़ने के लिए निम्‍न लिंक पर क्लिक कीजिए:-

अम्‍बेदकरनगर

इस मामले की जानकारी देते हुए एक नागरिक ने प्रमुख न्‍यूज पोर्टल मेरी बिटिया डॉट कॉम संवाददाता को बताया कि छात्र की पिटाई की सूचना मिलते ही बेसिक शिक्षा अधिकारी ने मौके पर क्षेत्रीय एसडीआई को मामले की जांच लिए भेजा गया था। मौके पर पहुंचे एसडीआई ने वहां पर मौजूद स्कूल प्रिंसिपल और शिक्षकों का बयान लिया।  वही इस घटना से पीड़ित छात्र के परिवार और क्षेत्रीय लोग काफी गुस्से में है। पीड़ित छात्र का कहना है कि मेरे ऊपर गलत आरोप लगाया जा रहा है। मैंने किसी को कोई पत्र नहीं लिखा है। वही स्कूल प्रिंसिपल का कहना है कि वो बच्चा थोड़ी सी गलती कर दिया था, जिसके दण्‍डस्‍वरूप कुछ  शिक्षकों ने उस पर कुछ अनुशासनात्मक कार्यवाही की है। मुख्‍य अ‍ध्‍यापक का कहना है कि उन्‍होंने उस छात्र को आज क्लास में देखा भी नहीं था।

इस मामले में बेसिक शिक्षा अधिकारी ने बताया कि मामला संज्ञान में आया है। मैंने क्षेत्रीय एसडीआई को मौके पर जांच के लिए भेजा है। जो भी रिपोर्ट आएगी उसके अनुसार आगे की कार्यवाही की जायेगी।