Meri Bitiya

Sunday, Nov 17th

Last update02:57:01 PM GMT

मेरी बिटिया डॉट कॉम अगर आपको पसंद हो, आप इस पोर्टल के लिए सुझाव, समाचार, निर्देश, शिकायत वगैरह भेजने के इच्‍छुक हों तो meribitiyakhabar@gmail.com पर हम आपकी प्रतीक्षा कर रहे है.

Advertisement

सक्सेस सांग

छोटी घटना, बड़ा दरोगा ने महान बना डाला

: पुलिस थाने पर पहुंच कर मासूम बोला कि उसके बाप को पीट कर बंद कर दो : इटावा के पुलिसवालों ने बच्‍चे समेत पचासों बच्‍चों को नुमाइश की सैर करा डाली : बच्‍चे को समझाया भी कि मम्मी-पापा का की दिक्कतें भी समझने की कोशिश करो :

कुमार सौवीर

लखनऊ : यह छोटी सी घटना थी। इतनी छोटी, कि उस पर सामान्‍य तौर पर कोई ध्यान भी नहीं दे पाते। लेकिन पुलिस ने अपनी वर्दी पर बेल्ट कसने के बजाए अपने दिल को खोल दिया। फिर क्या था( एक अजस्र धारा बह निकल पड़ी। करुणा की, जिसमें घुला-मिला मौजूद थी समझदारी, मानवता और सामाजिक रिश्तों का गजब मिश्रित ताना-बाना।

जरा सोचिए कि एक मासूम बच्चा अपनी आंखों में आंसू भरे हुए पुलिस थाने पर पहुंचे और बिलख पड़े। अपने पिता पर शिकायत करें कि उसके पिता उसे समय ही नहीं देते। वह घूमना चाहता है, लेकिन इसे घुमाने नहीं ले जाते। वह चाहता है कि उसके पिता उसे नुमाइश या किसी प्रदर्शनी-एग्जीबिशन में ले चलें। खुद न भी चल सकें, तो कम से कम ऐसा जरूर करें कि उसे एग्जीबिशन जाने का अवसर मिल सके। मगर उसके पिता ऐसा नहीं कर रहे हैं। बच्चे को इसी बात पर गुस्सा है और वह चाहता है कि पुलिस वाले उसकी मदद करें। पुलिस वाले उसके बाप पर दबाव डालें ताकि वे उसे एग्जीबिशन ले जाएं। और अगर ऐसा नहीं होता है तो उस बाप के साथ ठीक वही सुलूक किया जाए थाने में आने वाले सामान्‍य शातिर अपराधियों के साथ होता है। मतलब उन्हें हूर दिया जाए, पीटा जाए और फिर हवालात में बंद कर दिया जाए।

आईपीएस अफसरों से जुड़ी खबरों को देखने के लिए क्लिक कीजिए:- बड़ा दारोगा

थाने में जब यह बच्‍चा पहुंचा तो उसे किसी भी पुलिस वाले ने उसे डांटा नहीं। न ही उसकी ओर हिकारत-उपेक्षा की नजर डाली। ऐसा भी नहीं किया उस बच्‍चे की बात को अनमने तरीके से ही सुन लिया और उसे टरका लिया। यह भी नहीं कि उस बच्‍चे की बात को सुन कर इंस्‍पेक्‍टर ने दो-एक पुलिसवालों को भेज कर उसके मोहल्‍ले पर पहुंच कर उसके मां-बाप पर अपने पुलिसिया रंग-दाब का प्रदर्शन किया, दो-चार डंडे मारे, या उसके गालियां देते हुए ताईद करने की कोशिश की कि आइंदा ऐसा हुआ तो डंडा यथास्‍थान रख दिया जाएगा।

बल्कि पुलिसवालों ने उसकी पीड़ा को सिर्फ समझा ही नहीं, बल्कि उसे व्‍यापक परिदृश्‍य में देखने, दिखाने और समझ कर उसका सामूहिक निदान खोजने की कोशिश की। इस पुलिसवाले ने इस बच्‍चे की पूरी बातचीत का वीडियो बनाया और उस बात को अपने अधिकारियों के साथ ही साथ जन-सामान्‍य तक वायरल कर दिया। जाहिर है कि यह पुलिसवाला जानना था कि यह सामाजिक मसला है, इसलिए वह यही चाहता रहता होगा कि उसका सामाजिक निदान खोजे।

इस मसले पर वरिष्‍ठ पुलिसअधिकारियों ने भी ठीक उसी गम्‍भीरता से उसे देखा, समझा और उस मसले का समाधान खोजने का रास्‍ता निकाल लिया। इटावा का बड़ा दारोगा यानी एसएसपी वैभव कृष्‍ण ने इस प्रकरण पर संवेदनशीलता का प्रदर्शन किया, और अपने मातहतों से कहा कि इस बच्‍चे की ख्‍वाहिश पूरी हो जाए। पुलिसवालों की टोली बच्‍चे के घर गयी, उसके मां-बाप से बातचीत की, दोनों के साथ ही बच्‍चे को भी भरसक समझाया। और उसके बाद केवल उस बच्‍चे ही नहीं, बल्कि पूरे मोहल्‍ले के ऐसे ही हमउम्र बच्‍चों को जुटाया। इसके बाद एक बस जुटायी, और उन करीब पचास बच्‍चों को लेकर यह पुलिसवाले सीधे उस प्रदर्शनी स्‍थल पहुंचे। बच्‍चों को घुमाया, बच्‍चों ने जो भी चाहा, उन्‍हें खिलाया। झूला झुलाया, अपने साथ सैर की और उनकी हर एक बात को पूरी बात सुनी। ( क्रमश:)

यह घटना केवल इसलिए महत्‍वपूर्ण नहीं है कि इसमें पुलिसवालों ने सिर्फ उस बच्‍चे को संतुष्‍ट किया। बल्कि यह घटना इस लिए महान बन गयी है, क्‍योंकि पुलिसवालों ने इस बच्‍चे की निजी समस्‍या को सामाजिक समस्‍या की तरह देखा, और उसका सामूहिक तौर पर समाधान खोजने की कोशिश की है। इस मामले में हम इटावा के बड़ा दारोगा को सैल्‍यूट करते हैं। इसके साथ ही साथ इस पूरे मसले को बाल एवं मनो-सामाजिक मसले के तौर पर उसका विश्‍लेषण करने की कोशिश करने जा रहे हैं। यह श्रंखलाबद्ध आलेख तैयार किया है हमने। इसकी बाकी कडियों को देखने के लिए कृपया निम्‍न लिंक पर क्लिक कीजिएगा:-

वर्दी में धड़कता दिल

मृत्‍युंजय ने फिर दिखाया मौत को ठेंगा, अब खतरे से बाहर हैं शेखर त्रिपाठी

: लेकिन नींद बेहोशी में है मृत्युंजय वरिष्‍ठ पत्रकार शशांक शेखर त्रिपाठी : सेप्टीसीमिया का खतरा टला, तेजी से सुधर रहा है स्‍वास्‍थ्‍य : अस्‍पताल से बाहर निकलने में अभी कुछ हफ्ते और लगेंगे जरूर : दैनिक जागरण और हिन्‍दुस्‍तान अखबार के सम्‍पादक रह चुके हैं शेखर त्रिपाठी :

कुमार सौवीर

गाजियाबाद : जो साक्षात मृत्युंजय है, उसे मौत से क्या डर। किसी ऐसे-वैसे यमदूत के वश की बात नहीं होती है कि वह किसी मृत्‍युंजय को अपने पास जबरन ले जा पाये। मृत्यु तो उसकी बांदी है, उसे अपने बंधनों में बांधकर साथ नहीं ले जा सकती। तब तक नहीं, जब तक साक्षात परमात्‍मा उसे अपने पास बुलाने का आग्रह न कर ले। उसे साथ ले चलने के लिए सीधे परमेश्वर की इजाजत की जरूरत होती है, यमराज की नहीं।

हिन्‍दी पत्रकारिता-जगत में एक अप्रतिम और विशालकाय ग्रह थे शशांक शेखर त्रिपाठी। उनसे जुड़ी खबरों को पढ़ने के लिए कृपया निम्‍न लिंक पर क्लिक कीजिए:-

शशांक शेखर त्रिपाठी

जी हां, वरिष्ठ पत्रकार शशांक शेखर त्रिपाठी ने अब मौत को भी हरा दिया है। साक्षात मृत्युंजय बन चुके हैं वह। वह मृत्युंजय जिसने मृत्यु को पराजित कर दिया। गाजियाबाद के अस्पताल यशोदा हॉस्पिटल में भर्ती शेखर त्रिपाठी अब खतरे से बाहर निकल चुके हैं। हालांकि वे अभी भी गहरी बेहोशी में हैं। लेकिन उन पर सारे संकट समाप्त हो चुके हैं। ऐसा उनकी निगरानी करने वाले डॉक्‍टर बताते हैं। आपको बता दें कि करीब एक सप्ताह पूर्व शशांक शेखर त्रिपाठी अपने बाथरूम में गिर पड़े थे। परिजनों उन्‍हें लेकर तत्काल गाजियाबाद के नर्सिंग होम पहुंचे, जहां डॉक्टरों ने उनकी हालत बेहद गंभीर बतायी।  घटना के बाद गाजियाबाद के कौशाम्‍बी स्थित यशोदा अस्पताल पहुंचे दैनिक ट्रिब्यून समाचार पत्र नेशनल ब्यूरो हेड डॉक्टर उपेंद्र पांडे ने प्रमुख न्यूज़ पोर्टल मेरी बिटिया डॉट कॉम के संवाददाता को बताया कि शेखर त्रिपाठी की हालत बेहद नाजुक है। उन्हें सेप्टीसीमिया का खतरा बढ़ता जा रहा है। डॉक्टरों ने उनकी छोटी आंत का तीन चौथाई हिस्सा काट कर फेंक दिया और लेकिन इसके बावजूद शेखर त्रिपाठी के स्वास्थ्य में कोई भी सुधार नहीं हो रहा था। डॉक्टरों ने उन्हें बताया था उनके एक के बाद एक सारे अंगो ने काम करना बंद शुरू कर दिया था। डॉक्‍टरों के अनुसार यह एक बेहद नाजुक हालत थी। इसी को देखते हुए डॉक्टरों ने शेखर त्रिपाठी डायलिसिस ले लिया था।

पत्रकारिता से जुड़ी खबरों को देखने के लिए निम्‍न लिंक पर क्लिक कीजिए:-

पत्रकार

बीती शाम अचानक शेखर त्रिपाठी स्वास्थ्य में डॉक्टरों ने एक चमत्कारिक बदलाव देखा। उन्‍होंने पाया कि शेखर त्रिपाठी का पेशाब सामान्य तौर से रिलीज हुआऍ यह एक सुखद और आशाजनक संकेत बताया जाता है। आज देर शाम डॉक्टरों ने बेहद प्रसन्नता के साथ लोगों को बताया कि शेखर त्रिपाठी की हालत में करीब 80 फ़ीसदी तक सुधार दर्ज हो रहा है। उपेंद्र पांडे का कहना है कि पेशाब होना सेप्टीसीमिया के खात्‍मे की तेज प्रक्रिया का प्रतीक है।

पत्रकारिता से जुड़ी खबरों को देखने के लिए निम्‍न लिंक पर क्लिक कीजिए:-

पत्रकार

आपको बता दें कि आज से करीब 20 साल पहले दैनिक जागरण के संपादक नरेंद्र मोहन की हालत भी कुछ इसी तरह बेहद नाजुक हो गई थी। ऐसे में उन्हें दिल्ली के एम्स में भर्ती कराया गया था। डॉक्टर के अनुसार नरेंद्र मोहन को भी सेप्टीसीमिया विकसित हो गया था। लेकिन मोहन को डॉक्टरों के तमाम कोशिशों के बावजूद नहीं बचाया जा सका।

लेकिन अब यह दूसरा मौका है जब दैनिक जागरण का एक वरिष्ठ पदस्‍थ सहयोगी और जागरण डॉट कॉम के संपादक शशांक शेखर त्रिपाठी को भी सेप्टीसीमिया का संक्रमण हुआ। लेकिन बेहद आश्चर्यजनक तरीके से शीघ्र ही त्रिपाठी ने साबित कर दिया कि वह साक्षात मृत्युंजय हैं। जिसे समय से पूर्व  कोई नहीं हरा सकता  मृत्यु नहीं मृत्यु नहीं हरा सकती।

कानपुर से जुड़ी खबरों को पढ़ने के लिए निम्‍न लिंक पर क्लिक कीजिए:-

कानपुर

अरे यह सरकारी स्‍कूल है। कांवेंट में यह दम कहां !

: एक प्रधानाध्‍यापक ने किस्‍मत बदल डाली छात्र, विद्यालय, शैक्षिक माहौल और पूरी शिक्षा के मकसद की : निहारिये जरा सम्‍भल के इस फाइव स्टार कॉन्वेंट से भी चमकीला इस सरकारी स्कूल को : अब नयी कहावत बदल दी कपिल मलिक ने कि जाट जिये तब मानिये, जब शिक्षा चमक जाए :

नवनीत मिश्र

सम्‍भल :आंखें तरस गईं थीं किसी सरकारी स्कूल की इतनी खूबसूरती के दीदार को। आज सोशल मीडिया के किसी कोने में वायरल हो रहीं इन तस्वीरें पर नजर पड़ीं तो चौंक गया। सोचा, क्या पंचसितारा कॉन्वेंट स्कूलों की भी चमक को फीकी कर देने वाले ऐसे सरकारी स्कूल हो सकते हैं। हमें लगा कि कहीं ये फोटोशॉप का कमाल तो नहीं। गूगल पर स्कूल का नाम डाला तो पता चला कि स्कूल की तस्वीरें सहीं हैं। कई खबरों में इस स्कूल और प्रधानाध्यापक का गुणगान किया गया है।

ये तस्वीरें अपने यूपी के ही एक सरकारी स्कूल की हैं। फटेहाल सरकारी स्कूलों के इस दौर में इतने सजे-संवरे स्कूल कल्पना से परे हैं। मगर एक कर्तव्यनिष्ठ प्रधानाध्यापक ने अपनी जिद/ जुनून और कर्मठता से सरकारी स्कूल को कान्वेंट से भी ज्यादा चमकीला बना दिया। ये तस्वीरे हैं संभल जिले के प्राथमिक विद्यालय इटायला माफी की। विद्यालय के इस स्वरूप के शिल्पी हैं खुद प्रधानाध्यापक कपिल मलिक। जिन्होंने जेब से पैसा लगाकर इस विद्यालय को इतना खूबसूरत बना दिया। वो भी बड़े ही खामोशी के साथ।

काश, सरकारी कोशिशें प्राथमिक विद्यालयों के सुधार पर केंद्रित होतीं। सरकारी स्‍कूलों से जुड़ी खबरों को देखने के लिए निम्‍न लिंक पर क्लिक कीजिए:-

सरकार स्‍कूल

और हां, यह स्कूल सिर्फ देखने में ही सुंदर नहीं है, बल्कि यहां पढ़ाई-लिखाई भी एक नंबर की है। स्कूल में कक्षा तीन से पांच तक के बच्चों को प्रत्येक दिन एक घंटे कम्प्यूटर की शिक्षा दी जाती है। वहीं बच्चों को पढ़ाने के लिए चाक और ब्लैक बोर्ड का इस्तेमाल नहीं किया जाता। बल्कि उसके स्थान पर व्हाइट बोर्ड और मार्कर का इस्तेमाल किया जा रहा है। जिससे बच्चे आसानी उसे समझ सकें। इतना ही नहीं बिजली न आने पर भी बच्चों को गर्मी नहीं लगती। क्योंकि प्रधानाचार्य ने इसके लिए स्कूल में सोलर लाइट लगवा रखी और स्कूल के सभी पंखे इसी लाइट से चलते है।

स्कूल के गुणगान की खबर मिलने पर जब पिछले साल बीएसए यहां पहुंचे तो वे भी चौंक गए। प्रधानाध्यापक के कामकाज से प्रभावित बीएसए की संस्तुति पर डीएम ने स्कूल के लिए एक लाख रुपये की आर्थिक मदद भी स्वीकृत की। ऐसे दौर में जब ग्राम प्रधान के साथ मिलकर बच्चों का मिड-डे-मील भी खा जाने के आरोप सरकारी शिक्षकों पर लगते हैं तब ऐसे प्रधानाध्यापक के सामने सिर झुकाने का मन करता है। सैल्यूट कपिल मलिक साहब।

सरकार को चाहिए कि कपिल मलिक को बेसिक शिक्षा परिषद का ब्रांड एंबेसडर बनाए। इससे उनका जहां मनोबल बढ़ेगा, वहीं हजारों शिक्षक अपने-अपने स्कूलों को इसी तरह चमकाने के लिए प्रेरित होंगे।

सुप्रीम कोर्ट में लगेगा महिला वकील हिंगोरानी का पोट्रेट

: भारत की शीर्ष अदालत के 67 साल के इतिहास में पहली बार पुस्तकालय में एक महिला वकील का एक चित्र सजेगा : पुष्‍पा कपिला हिंगोरानी को जनहित याचिकाओं की मां के तौर पर सम्‍मान दिया जाता है : न्याय का एक सशक्‍त और ईमानदारी की अग्रदूत मानी जाती रही हैं कपिल हिंगोरानी :

मेरी बिटिया संवाददाता

नई दिल्‍ली : मुल्‍क की सबसे बड़ी अदालत की लाइब्रेरी में अब एक ऐसी शख्सियत का नाम चित्रयुक्‍त नाम जुड़ने वाला है, जिसे वास्‍तविक अर्थों में न्‍याय की अग्रदूत और जनहित याचिकाओं की जननी मानी जाती रही है। तय हुआ है कि न्यायिक दिग्गज एम सी सैतलवाड़, सीके डाफ़्ट्री और आरके जैन की छवियों के साथ-साथ विख्यात बैरिस्टर कपिला हिंगोरानी की तस्वीर शुमार की जाए। इस महान महिला वकील का नाम है स्‍वर्गीय पुष्‍पा कपिला हिंगोरानी। न्यायाधीश दीपक मिश्रा ने मंगलवार को अपने चित्र को रिहा करने के बाद कहा, "यह लंबे समय से लंबित था"। उन्‍होंने बताया कि हिंगोरानी के लिए सम्मान बहुत पहले आ जाना चाहिए था क्योंकि वह अजीब के लिए न्याय का एक सच अग्रदूत था।

न्‍यायपालिका की खबरों को पढ़ने के लिए कृपया निम्‍न लिंक पर क्लिक कीजिएगा:-

जस्टिस और न्‍यायपालिका

ब्रिटेन में कार्डिफ लॉ स्कूल से स्नातक होने वाली पहली भारतीय महिला कपिल हिंगोरानी, ​​1979 में शीर्ष अदालत में सार्वजनिक हित याचिका (पीआईएल) दर्ज करने वाली पहली वकील थीं। उनकी याचिका उन कैदियों के लिए थी जो कई वर्षों तक मुकदमे का इंतजार कर रहे थे । कभी-कभी जेल में अधिक से अधिक समय के लिए उन्हें सजा देने के लिए अधिक सजा भुगतनी पड़ती थी।

कपिल हिंगोरानी को जनहित याचिकाओं की मां कहा जाता है। उनकी पहली जनहित याचिका ने तेज परीक्षणों के लिए दिशा-निर्देश तय करने के लिए शीर्ष अदालत का नेतृत्व किया।

बिहार सरकार के हजारों कर्मचारियों को 4 माह से लेकर 94 महीने तक वेतन देने से वंचित करने के लिए हिंगोरानी ने दूसरी महत्वपूर्ण जनहित याचिका दायर की थी। एक बैरिस्टर, हिंगोरानी कार्डिफ में कानून का अध्ययन करने वाली पहली भारतीय महिला थीं। हालांकि उनका परिवार नैरोबी और लंदन में बस गया, उसने भारत में रहने के लिए चुना क्योंकि वह महात्मा गांधी से प्रेरित थीं। उसकी जनहित याचिका ने उच्च न्यायालयों को शीघ्र परीक्षणों के लिए विस्तृत दिशानिर्देश जारी करने के लिए नेतृत्व किया और लगभग 40,000 कैदियों को जारी किया गया था।

अधिवक्‍ता-जगत से जुड़ी खबरों को देखने के लिए कृपया निम्‍न लिंक पर क्लिक कीजिए:-

लर्नेड वकील साहब

नैरोबी में 1 9 27 में जन्मे, हिंगोरानी महात्मा गांधी से प्रेरित थीं। सुप्रीम कोर्ट में सिर्फ तीन महिला वकीलों थे जब उन्होंने वहां अभ्यास शुरू किया था। वह 86 साल की थी, जब वह 60 साल के एक उल्लेखनीय कैरियर के विस्तार के बाद 2013 में मृत्यु हो गई थी। हिंगोरानी और उनके तीन बच्चों - वकील अमन, प्रिया और श्वेता - शीर्ष अदालत में 100 से ज्यादा मामले लड़े।

सुप्रीम कोर्ट बार एसोसिएशन के अध्यक्ष रुपिंदर सूरी ने कहा कि यह चित्र बार के सदस्य के रूप में हिंगोरानी की उपलब्धियों की सही पहचान है। "वह सिर्फ एक वकील नहीं बल्कि एक बैरिस्टर भी थी वह ब्रिटेन में रह सकती थी, लेकिन भारत को चुना, "उन्होंने कहा।

पत्रकारों का आशियाना उजाड़ रहे योगी, जबकि खट्टर उन्‍हें भुखमरी से बचाने

: दस हजार रूपया महीना पेंशन देगी हरियाणा सरकार पत्रकारों को : पांच बरस तक सतत पत्रकारिता के बाद मान्‍यता मंजूर कर दी जाएगी : वयोवृद्ध पत्रकारों को पेंशन की योजना भी लागू कर दी मुख्‍यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने :

कुमार सौवीर

चंडीगढ़ : हरियाणा के पत्रकार आज बिना दारू के ही मस्‍त हैं। आज एक बूंद भी नहीं चखी है इन पत्रकारों ने, लेकिन इसके बावजूद वे पूरी तरह टल्‍ली हो चुके हैं। वजह है हरियाणा सरकार का वह ऐलान, जिसके तहत हर पत्रकार को अब हर महीने दस हजार रूपयों की अनिवार्य पेंशन दी जाएगी। शर्त सिर्फ यह होगी कि वह लगातार पांच बरस तक श्रमजीवी पत्रकार की भूमिका में कार्यशील रहा हो। मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने आज यहां पंचकूला में सूचना, जनसम्पर्क एवं भाषा विभाग द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम में मासिक पेंशन योजना की शुरूआत करके 9 व्योवृद्ध पत्रकारों को पेंशन प्रदान की।

इस सम्बन्ध में जानकारी देते हुए एक सरकारी प्रवक्ता ने बताया कि इस योजना के अन्तर्गत दैनिक, संध्या, साप्ताहिक, पाक्षिक, मासिक समाचार पत्र, समाचार एजेंसियों, रेडियो स्टेशनों, समाचार चैनलों के 60 वर्ष से अधिक आयु के मान्यता प्राप्त मीडिया कर्मियों को 10,000 रुपये की मासिक पेंशन प्रदान की जाएगी।

पात्रता मानदण्ड की जानकारी देते हुए उन्होंने बताया कि दैनिक, संध्या, साप्ताहिक, पाक्षिक, मासिक समाचार पत्र, समाचार एजेंसियों, रेडियो स्टेशनों, समाचार चैनलों के मान्यता प्राप्त मीडिया कर्मी जिन्हें पत्रकारिता के क्षेत्र में कम से कम 20 वर्ष का अनुभव हो और उनकी आयु 60 वर्ष से अधिक हो, पेंशन के पात्र होंगे। इसी प्रकार, मीडिया कर्मी की कम से कम पिछले पांच वर्षों से सूचना, जनसंपर्क एवं भाषा विभाग, हरियाणा से मान्यता प्राप्त होनी चाहिए।

पत्रकारिता से जुड़ी खबरों को देखने के लिए निम्‍न लिंक पर क्लिक कीजिए:-

पत्रकार पत्रकारिता

नियम एवं शर्तें के बारे में उन्होंने बताया कि लाभार्थी मीडिया कर्मी को अपने बैंक खाते में पेंशन की रकम जमा करने के लिए किसी भी राष्ट्रीयकृत बैंक में आधार लिंक बचत बैंक खाता खोलना होगा और हर वर्ष जनवरी मास में इस आशय का एक प्रमाण पत्र देना होगा।

उन्होंने बताया कि किसी अन्य राज्य सरकार या समाचार संगठन से किसी भी प्रकार की पेंशन या मानदेय प्राप्त कर रहे मीडिया कर्मी भी पात्र होंगे। बहरहाल, यदि कोई अन्य पात्र मीडियाकर्मी किसी अन्य राज्य सरकार से 10,000 रुपये प्रतिमास से कम राशि की पेंशन प्राप्त कर रहा है तो इस योजना के तहत पेंशन की पात्रता में से वह राशि घटा दी जाएगी।लाभार्थी मीडिया कर्मी के निधन के मामले में, मासिक पेंशन उसके पति/पत्नी (पत्नी या पति, जैसा मामला हो सकता है) को दी जायेगी, यदि उसे किसी भी संगठन या राज्य सरकार से वेतन/मेहनताना/पेंशन या कोई अन्य नियमित वित्तीय सहायता नहीं मिल रही है।

एक पत्रकार ने खट्टर के इस फैसले पर झूमते हुए बताया कि:- लो 10 हजार रुपये महीने का तो जुगाड़ कर दिया हरियाणा सरकार ने--बस छह महीने और चल जाए मेरी मान्यता तो हो जाउंगा पात्र (पांच वर्ष से हरियाणा सरकार की मान्यता है जरूरी)।

Page 4 of 36