Meri Bitiya

Thursday, Jun 21st

Last update12:38:55 PM GMT

मेरी बिटिया डॉट कॉम अगर आपको पसंद हो, आप इस पोर्टल के लिए सुझाव, समाचार, निर्देश, शिकायत वगैरह भेजने के इच्‍छुक हों तो meribitiyakhabar@gmail.com पर हम आपकी प्रतीक्षा कर रहे है.

Advertisement

जिला अस्पताल में दलाली, पत्रकार पर मुकदमा

: अस्पताल में चल रहा है पत्रकारों में लपड़-झपड़, मामला कोतवाली पहुंचा : मनबढ़ अस्पतालकर्मियों ने नगर मजिस्ट्रेट पर भी मढ़े थे फ़र्ज़ी आरोप : जिला अस्पताल में चलती है चन्द पत्रकारों की सल्तनत :

मेरीबिटिया संवाददाता

बहराइच : भयादोहन के अभिप्राय बने एक कथित पत्रकार पर रंगदारी वसूलने के मामले में अभियोग दर्ज हो गया है। शहर के कोतवाली नगर अन्तर्गत निवासी अमित सिंह की तहरीर पर पत्रकार फराज अंसारी के विरूद्ध धारा 386 पंजीकृत है। मुकदमा वादी अमित सिंह ने अपने तहरीर में उल्लेख किया कि अपने को पत्रकार बताने वाले फराज अहमद अंसारी को जब प्रार्थी दिनांक 28 मई, 18 सायं को जब जिला अस्पताल के पीछे खड़ा था तभी फराज अहमद अंसारी अपने पूरे गैंग के साथ आया और कट्टा निकालकर जान से मारने के नियति से धमकाते हुए पचास हजार का गुण्डा टैक्स मांगा और धमकी दिया कि पैसा नहीं दिया तो जान से मार देगे। पीडि़त किसी तरह जान बचाकर भागा।

अर्जी के मुताबिक पीडि़त के अनुसार उसने घटना की सूचना नगर कोतवाली में मोबाइल से सूचना दिया। नगर कोतवाली पुलिस द्वारा बताया गया कि आप थाने आकर लिखित सूचना दे। पीडि़त द्वारा थाने में दिए गए तहरीर में उल्लेख किया है कि फराज अंसारी उसकी हत्या कर सकता है। पीडि़त ने पुलिस से प्राण रक्षा की गुहार लगाई है। पीडि़त की तहरीर पर कोतवाली नगर पुलिस ने फराज अंसारी के विरूद्ध संज्ञीय अपराध कारित करने का अभियोग पंजीकृत किया। प्रभारी निरीक्षक ने बताया कि मुकदमा दर्ज हो गया है। पुलिस विवेचना कर रही है। गुणदोष पर मुकदमें को निष्पादित किया जायेगा।

एक अख़बार ने इस मामले पर खबर छपी है कि इस मुकदमे के दर्ज होने पर दीवाली जैसा जश्न रहा जिला चिकित्सालय में। कथित पत्रकार फराज अंहमद अंसारी के विरूद्ध अभियोग दर्ज होने के बाद जिला चिकित्सालय के कर्मियों में खासा उत्साह देखने को मिला। चिकित्साकर्मियों ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि फराज अहमद अंसारी पत्रकारिता की आड़ में चिकित्सा कर्मियों का भयादोहन करता है। विशेषकर महिला स्वास्थ्यकर्मियों ने बताया कि फराज अहदम अंसारी के विरूद्ध पंजीकृत मुकदमा उनके लिए दीवाली जैसे पावन जैसा उत्सव है। विशेषकर महिला चिकित्सा कर्मियों कहना है कि फराज अंसारी पत्रकारिता के नाम पर उन पर रौब गांठता था। देर रात तक अस्पताल में विचरण करता था।

आपको बता दें कि जिला अस्पताल में चन्द पत्रकारों की सल्तनत चलती है। यह लोग निर्माण से लेकर स्तरहीन दवाएं खपाने की साजिश में लिप्त हैं। खुद को पत्रकार के तौर पर घोषित अधिकांश ऐसे पत्रकारों की छवि किसी शातिर अपराधी से कम नहीं है।

उधर पत्रकार फ़राज़ अंसारी को झूठे मुकदमों में फंसाकर बदनाम करने की साजिश के विरोध में एक बैठक आयोजित कर पत्रकार अपनी रणनीति तय करने जा रहे हैं। जिसमे सभी पत्रकार इस मामले पर आगे की कार्यवाही की जा सके।

Comments (0)Add Comment

Write comment

busy