Meri Bitiya

Friday, Nov 16th

Last update02:57:01 PM GMT

मेरी बिटिया डॉट कॉम अगर आपको पसंद हो, आप इस पोर्टल के लिए सुझाव, समाचार, निर्देश, शिकायत वगैरह भेजने के इच्‍छुक हों तो meribitiyakhabar@gmail.com पर हम आपकी प्रतीक्षा कर रहे है.

Advertisement

सलाम तुमको अवनीश पांडे, तुमको पीढ़ियां याद करेंगीं

: कहानी एक ऐसी प्रतिभा की, जो प्रतिभाओं को कसौटी पर खरा उतराने के लिए अपनी की प्रतिभा को भी खत्‍म कर गया : यूपी लोक सेवा आयोग को सीबीआई के रडार तक पहुंचाने का भागीरथी प्रयास करता रहा यह युवक : आयोग की करतूतों पर आजीवन लड़ने की कसम खायी अवनीश ने :

कुमार सौवीर

लखनऊ : यह कहानी उस प्रतिभाशाली युवक की है, जिसने अपनी प्रतिभा को खुद ही कुल्‍हाड़ी से काट डाला। मकसद यह कि वह प्रतिभाओं की सामूहिक नर-संहारों के खिलाफ एक जबर्दस्‍त धर्मयुद्ध कर बैठा था। उसका यह प्रयास किसी महान भागीरथी-प्रयत्‍न से कम नहीं था, जिसने अपने पुरखों को तर करने के लिए अपने बरसों-बरस एक पैर पर तपस्‍या की थी। लेकिन जिस तरह भागीरथ की कोशिशें से गंगा बह निकलीं, जिसने लाखों-करोड़ों पुरखों को तृप्‍त कर दिया, ठीक उसी तरह इस युवक ने भी जिस कोशिश को सफलीभूत कराया है, उसने आने वाली सदियों में अपनी पहचान को तरसती प्रतिभाओं को तृप्‍त किया जा सकेगा।

इस युवक का नाम है अवनीश पांडेय। आज जिस तरह यूपी लोक सेवा आयोग के गिरहान को सीबीआई दबोच रही है, वह अवनीश पांडेय की कोशिशों का ही असर है। सच बात तो यही है कि आयोग तक सीबीआई के रडार को पहुंचाने का भागीरथी प्रयास अवनीश ने ही छेड़ा था। अब हालत यह है कि अवनीश आज द्वारा अभ्‍यर्थियों को दिये गये कष्टों का चुन-चुन कर बदला ले रहे हैं।

सिविल सेवाओं में आना लाखों नौजवानों का सपना होता है पर हर किसी का सपना सच नही हो पाता। कुछ लोग तैय्यारी करते हैं, चयन हो जाता है तो ठीक वर्ना दो-चार सालों में मैदान छोड़ निकल लेते हैं। पर क्या करियेगा अगर खेल कराने वाला अंपायर ही बेईमान निकल जाये? कुछ यही आरोप पिछले कई सालों से उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग पर लग रहे हैं। एक विशेष जाति के लोगों का चयन करने के आरोप तो सरेआम लगे उसके अलावा अनिल यादव नाम के हिस्टरीटर को आयोग का अध्यक्ष बनाया गया तत्कालीन मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के द्वारा।कई लोगों ने इन सब बातों को नज़रअंदाज़ कर दिया पर एक व्यक्ति था जिसने हार नही मानी और चुन-चुनकर बदला लिया। उस व्यक्ति का नाम है अवनीश पांडे।

अवनीश पांडे वही इंसान है जिसने सबसे पहले साल 2013 में सड़कों पर उतरकर लोक सेवा आयोग में चल रहे जातिवाद के खिलाफ आवाज़ बुलंद की थी। ये वही अवनीश हैं जिन्होंनें हिस्ट्रीशीटर अनिल यादव को लोक सेवा आयोग के अध्यक्ष पद से हटाने के लिये माननीय इलाहाबाद उच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटाया था। जिसके बाद तत्कालीन मुख्य न्यायाधीश डीवाई चंद्रचूड़ ने अनिल यादव को अपने पद से बर्खास्त कर दिया था। अवनीश ने अपना सारा जीवन छात्र हित के नाम कर दिया।

अवनीश को नौकरी तो नही मिल पायी पर जो काम उसने कल दिया उसके लिये उसे पीढ़ियां याद करेंगीं। शासन-प्रशासन ने कितने ही दबाव डाले, धमकियां दीं पर पांडे टस से मस नही हुए और सरकार से लोहा लेते रहे। आज भी जब कभी आप इलाहाबाद की सड़कों पर निकलकर किसी छात्र से बात करते हैं तो आपको अवनीश के चर्चे सुनने को मिलते हैं। फेसबुक पर भी अवनीश के मित्रों की एक बड़ी संख्या है जो उनके हर एक फेसबुक अपडेट की प्रतीक्षा करते रहते हैं।

Comments (8)Add Comment
...
written by Shailendra Singh , May 25, 2018
सादर प्रणाम
...
written by Shailendra Singh , May 25, 2018
सादर प्रणाम
...
written by अखिलेश्वर सिंह, May 25, 2018
निःसंदेह
बेबाक, निर्भीक,अतुलनीय निश्वार्थ कार्य से युक्क्त सिकंदरिया रूपी यात्रावितान्त है,आप अग्रज का।सादर।
...
written by अखिलेश्वर सिंह, May 25, 2018
बेबाक, निर्भीक,अतुलनीय निश्वार्थ कार्य और सिकंदरिया रूपी यात्रावितान्त है,आप अग्रज का।सादर।
...
written by Vikky, May 25, 2018
सचमुच अवनीश भैया के संघर्ष और उनके जैसा त्याग बहुत कम ही देखने को मिले दानवीय प्रवृत्ति के लोगो से लड़ते लड़ते ये युद्ध आज अंतिम पड़ाव पर है ,जिसमे भैया की विजय निश्चित है ।
...
written by AVNISH PANDEY, May 25, 2018
चरण स्पर्श सर ! आज जैसे बड़े भाइयों की जीवटता, ईमानदारी और कर्तव्यनिष्ठता से ही ऊर्जा मिलती रही है, ईश्वर आप जैसे बड़े भाइयों का स्नेह प्रदान रहें ।
...
written by राघवेन्द्र, May 25, 2018
वाह शानदार मजा आ गया सौवीर सर
...
written by राघवेंद्र कुमार द्विवेदी, May 25, 2018
गुरुदेव अवनीश का जन्म ही इसी कार्य हेतु हुआ था , आयोग का शुद्धिकरण करने के इनके भगीरथ प्रयास को नमन

Write comment

busy