Meri Bitiya

Friday, Dec 14th

Last update02:57:01 PM GMT

मेरी बिटिया डॉट कॉम अगर आपको पसंद हो, आप इस पोर्टल के लिए सुझाव, समाचार, निर्देश, शिकायत वगैरह भेजने के इच्‍छुक हों तो meribitiyakhabar@gmail.com पर हम आपकी प्रतीक्षा कर रहे है.

Advertisement

कलम पर कहर, पत्रकार का कचूमर निकालेगी पुलिस

: पत्रकारों को धमका रही लखनऊ की पुलिस : लखनऊ के पत्रकार जुहेब आलम की रिपोर्ट पर बौखलायी पुलिस, व्यापारियों से लिखवाई गजब अर्जी : खबर है कि खबर लिखने वाले पत्रकार का टेंटुआ दबोचा जाएगा :

कुमार सौवीर
लखनऊ :
5  मई को गणेश गंज में व्यापारीयों द्वारा आयोजित कार्यक्रम में झपकी ले रहे एसएसपी लखनऊ की वीडिओ
सोशल मीडिया पर प्रसारित क्या कर दी, पुलिस वालों के गुस्से का पारा थर्मामीटर फोड़ने पर आमादा लगता है। अपराधों को दबाने-छुपाने में माहिर पुलिस ने जब अपने बड़े दारोगा पर छींटें पड़ती देखीं, तो अपनी असलियत पर उतर पड़ी पुलिस और उसके कारिंदे। खबर है कि खबर लिखने वाले पत्रकार का टेंटुआ दबोचा जाएगा।
आपको बता दें कि अमीनाबाद के व्यवसाइयों ने लखनऊ के एसएसपी दीपक कुमार का सम्मान करने के लिए एक समारोह आयोजित किया था।सूत्र बताते हैं कि इस समारोह में बड़े दरोगा जी लगे थे झपकी लेने। एक फोटोग्राफर ने फोटो खींची तो एक रिपोर्टर ने उस पर खबर चेंप दी।
फिर क्या ? मच गया हंगामा।
होना भी था। बड़े दरोगा बिगड़ पड़े मातहतों पर। छोटे अफसरों की चूड़ी टाइट होने लगी तो छुट भइया अफसर अपना चेत छोड़ कर रिपोर्टर की चमड़ी उतारने में जुट गए। खोज शुरुआत हुई रिपोर्टर की खबर हटवाने की। नया नया न्यूज पोर्टल था, हड़क गया। उसने हटा दी खबर। मगर इसपर भी चैन नही मिला पुलिस को। पेशी कराई गई बड़े दरोगा के सामने। हड़काया गया पत्रकार। दीपक कुमार का दावा था कि वे सो नही रहे थे, बल्कि चिंतन-मनन में बिजी थे।
उधर उसके पहले आनन फानन में व्यापारीयों ने तहरीर अमीनाबाद पुलिस को दे दी थी कि यह गड़बड़ जुहेब आलम ने की है। उधर जुहेब आलम ने यू ट्यूब वीडिओ से वह खबर भी हटा दी।
लखनऊ पुलिस ने टविटर पर पत्रकार जुहेब आलम को व्यक्ति लिख दिया है,  पत्रकार नहीं ।  व  पत्रकार जुहेब आलम की वीडिओ /खबर  को भ्रामक होने का ऐलान कर दिया जब इस मामले में इंस्पेक्टर अमीनाबाद से पूछा गया की पत्रकार जुहेब आलम को कौन कौन सी धाराओं में निरुद्ध किया है ? तो इंस्पेक्टर अमीनाबाद  का कहना था की अभी तहरीर आई है जाँच होगी। 
लखनऊ पुलिस  यह बताने की मेहरबानी करेगी की बगैर जाँच के खबर  को भ्रामक होने का ऐलान कैसे कर दिया? एसएसपी लखनऊ सो रहे थे या झपकी ले रहे रहे थे ?
बहरहाल, दबाव बहुत पड़ा तो जुहेब ने माफीनामा लिख कर एसएसपी दीपक को दे दिया।

Comments (0)Add Comment

Write comment

busy