Meri Bitiya

Friday, Apr 03rd

Last update02:57:01 PM GMT

मेरी बिटिया डॉट कॉम अगर आपको पसंद हो, आप इस पोर्टल के लिए सुझाव, समाचार, निर्देश, शिकायत वगैरह भेजने के इच्‍छुक हों तो meribitiyakhabar@gmail.com पर हम आपकी प्रतीक्षा कर रहे है.

Advertisement

बाप रे बाप पत्रकार जी, तुम ट्रकों को रोक कर उगाही करते हो?

: अरे पाजी, तुम्‍हारे बारे में अब तो पूरे गोंडा में शोहरत हो चुकी है : जिला पत्रकार संघ ने की पत्रकारों के नाम पर हो रही ऐसी लूट पर तत्‍काल अंकुश लगाने की मांग : कितनी प्रतियां छपती हैं बदलता स्‍वरूप, जिसे मानहानि की नोटिस दी गयी :

कैलाश वर्मा

गोण्डा : यह पत्रकार न हुआ, मवाली-गुंडा हो गया। कलम-कागज छोड़ कर कानून अपने हाथ में ले लिया। जिले भर की सड़कों पर जहां-तहां गुजरते ट्रकों और ट्रालियों को रोक कर उन पर हुई लदान पर छानबीन करता है, कागजों की जांच के नाम पर उगाही करता है। और धमकाता है कि अगर पैसा नहीं दिया तो पास के थाने की पुलिस को बुला कर जेल में चक्‍की पिसवा देगा।

जी हां, यह गोंडा है, और यहां कमाल की पत्रकारिता होती है। यहां कुछ लोग भी हैं, जो पत्रकारिता जगत को कलंकित कर रहे हैं। ताजा मामला है गोंडा से बलरामपुर और उतरौला इलाकों की सड़कों पर सक्रिय तथाकथित पत्रकारों के गिरोह की। खबर है कि यह लोग कलम-कागज नहीं, किसी दारोगा या आरटीओ कर्मचारी की तरह गाडि़यां चेक करते हैं और धमकियां देकर वाहन स्‍वामियों से भारी उगाही करते हैं।

ऐसे कुछ तथा कथित पत्रकार जिसका सरगना नरेंद्रलाल गुप्ता जी है इनका कार्य अपने टीम के साथ गोण्डा बहराइच मार्ग गोण्डा बलरामपुर मार्ग गोण्डा उतरौला मार्ग पर खड़े होकर एक दरोगा जैसा व्यवहार अपनाने का इन मार्गो से गुजरने वाले मिट्टी बालू व खाद्यान्‍न की ट्राली ट्रक को रोक कर पूछतांछ करना यदि वह थोड़ा भी सहमा तो समझो इनका मुर्गा फंस गया। फिर क्या माल के मुताबिक सौदा करना सौदा नही पटा तो एसडीएम से लेकर कोतवाली पूर्ति विभाग को फोन पर सूचित कर मौके पर बुलाना। जिससे पूरी पत्रकारिता जगत कलंकित हो रही है। एक नही सैकड़ो उदाहरण से जिला प्रशासन से लेकर पुलिस प्रशासन भी वाकिब है। कई जगह मारे गए, गरियाये गए, भगाए गए फिर भी वसूली बन्द नही किया।

पत्रकारिता से जुड़ी खबरों को देखने के लिए निम्‍न लिंक पर क्लिक कीजिए:-

पत्रकार पत्रकारिता

अभी हाल में 31 जुलाई को इटियाथोक के 3-4 किसान नानबाबू राजू वर्मा,अरविंद वर्मा एक ट्राली को किराए पर लेकर सभी अपने खेत की उपज लाही ,सरसो,गेंहू,धान लाद कर खाताबही के साथ नवीन गल्ला मंडी में बेचने आ रहे थे तभी नरेंद्र लाल गुप्ता अपने गैंग के साथ पत्रकार बताकर ट्राली को रोककर पूंछतांछ किये और कोतवाली ले जाकर ट्राली सीज कराने और बन्द कराने की धमकी देकर 5100 रुपये लूट लिए। चूंकि अरविंद मेरे रिश्तेदार है मुझसे पूरी बात बताये तो मैंने पत्रकार संदीप अवस्थी से नरेंद्र गुप्ता को फोन कराके कहा कि जिनसे पैसा लिए हो वो किसान है वर्मा जी के रिश्तेदार है पैसा वापस कर दो तो ये साफ मुकर गए फिर पीड़ित से फोन कराकर पैसा वापस करने को कहा तो इंकार कर फोन काट दिए।इस बात को लेकर पीड़ित ने तहसील दिवस और कोतवाली में तहरीर दिया और एसपी से मिलकर तहरीर दिया है जिसपर एसपी ने न्याय देने का आश्वासन दिया है।

पेश बंदी को लेकर नरेंद्र गुप्ता ने बदलता स्वरूप में मुझे कोटेदारों का संरक्षक बताकर खबर छापी जबकि मैने खबर छपने से पूर्व अखबार के मालिक पवन गुप्ता से बता दिया था आज वही चीज किसी अन्य अखबार में प्रकाशित किया है फिर हाल ही बदलता स्वरूप के संपादक प्रकाशक सहित अन्य को मानहानि को नोटिस भेज दिया है।

जो भी सज्जन नरेंद्र गुप्ता व इनके गैंग से पीड़ित है वह एक शिकायती पत्र पुलिस अधीक्षक महोदय व पुलिस अधीक्षक को साक्ष्य सहित प्रेषित करें जिससे इस गैंग का सफाया होकर जेल भेजा जा सके। इस संबंध में मैं भी उ0प्र0 श्रमजीवी पत्रकार यूनियन की बैठक बुलाकर ऐसे तत्वों पर करवाई के लिये पुलिस अधीक्षक, जिलाधिकारी, डीआईजी, आयुक्त से मिल कर एक ज्ञापन दिया जाएगा।

कैलाश वर्मा गोंडा श्रमजीवी पत्रकार संघ के अध्‍यक्ष हैं।

Comments (0)Add Comment

Write comment

busy